Turtle ring Turtle ring offers many benefits. The correct use

ध्यान रखें कछुआ रिंग के बारे में यह बातें

Turtle ring Turtle ring offers many benefits. The correct use
Turtle ring Turtle ring offers many benefits. The correct use

Turtle ring कछुआ रिंग बहुत सारे फायदें देता है। इस रिंग के सही इस्तेमाल से ही यह फायदें मिलते है। इस रिंग को पहनते वक़्त नीचे दी गई हुई बातों का अवश्य ध्यान दीजिये

  • कछुआ रिंग हमेशा चांदी की बनी हुई होनी चाहिए।
  • इसे हमेशा शुक्रवार के दिन ही खरीदना चाहिए।
  • कछुआ रिंग हमेशा सीधे हाथ में पहननी चाहिए।
  • पहनने के बाद बार बार अंगूठी को घुमाना नहीं चाहिए।
  • मेष, कन्या, मीन और वृश्चिक राशि वाले लोगों को नहीं पहननी चाहिए। इन लोगों के लिए यह अंगूठी हानिकारक हो सकती है।
  •  कछुआ रिंग उतारकर मंदिर में ही रखें। वापिस पहनने से पहले लक्ष्मी माता की मूर्ति से छुआकर ही पहने।
  • महिलाओं को यह अंगूठी उलटे हाथ में पहननी चाहिए। पुरुषों को सीधे हाथ में पहननी चाहिए।
  • पूजा करके ही अंगूठी पहने।
  • ज्यादा जानकारी के लिए यहां क्लिक करें…………………….

कछुआ अंगूठी की जानकारी

Turtle ring यह कोई आम अंगूठी नहीं है। वास्तु शास्त्र के अनुसार कछुआ रिंग बहुत शुभ है। यह अंगूठी मनुष्य के लिए लाभदायक भी है। इसकी वजह से मनुष्य के कई दोष शांत हो जाते है। कछुआ रिंग मनुष्य का आत्मविश्वास बढ़ाता है। यह इसका सबसे बड़ा फायदा है। कछुआ उन्नति का प्रतीक भी है। इससे विष्णु भगवान् का अवतार माना गया है। इसी कारण से इसे वास्तु शास्त्र में इतनी एहमियत दी गई है। कछुआ रिंग मनुष्य का धन भी बढ़ाता है।इन्ही फायदों की वजह से कछुआ रिंग प्रसिद्ध है।

Turtle ring कछुआ रिंग हमेशा चाँदी की होनी चाहिए। सोने से बनवाने के लिए भी कछुआ के आकर चाँदी का ही होना चाहिए। इसके बाद इसके ऊपर सोने से काम करवालें। कछुए का मुख हमेशा मनुष्य की तरफ रखें। गलत तरीके से पहनने से आपका धन कम हो जायेगा।

पहली बार पहनते वक़्त रिंग को शुक्रवार के दिन ही पहने। शुक्रवार के ही दिन इसे खरीदें। पहनने से पहले इसको लक्ष्मी माता के सामने रखें। फिर इसको दूध और पानी से धो लीजिये। उसके बाद अगरबत्ती दिखा के पहन लीजिये। ऐसा करने से लक्ष्मी माता प्रसन्न होती है। पहनने के बाद यह रिंग घुमनी नहीं चाहिए। ऐसा करने से कछुए की दिशा बदलती है। यह सही नहीं होता।

कछुआ रिंग को किस ऊँगली में पहनना चाहिए ? इसे सीधे हाथ की मध्य या तर्जनी ऊँगली में पहने। आप कछुआ रिंग ऑनलाइन भी खरीद सकते है।आप कछुआ रिंग ज्योतिष से भी खरीद सकते है।

  • कछुआ रिंग की मदद से मनुष्य के कई दोष शांत होते है।
  • कछुआ जल और स्थान दोनों जगहों पर रहता है।इस रिंग को उन्नति का प्रतीक मानते है। इसको पहनने से आपको सफलता मिलती है।
  • शास्त्रों के अनुसार कछुआ भगवन विष्णु का भी प्रतीक है। इसको पहनने से आपके जीवन में सकारात्मक्ता बनी रहती है।
  • कछुआ रिंग आपका धन बढ़ाने में भी मदद कर सकता है।
  • धार्मिक मान्यताओं के अनुसार कछुआ रिंग घर में बरकत भी लेके आ सकती है ।
  • कछुए धरती और स्वर्ग दोनों से जुड़ा हुआ माना गया है। इसीलिए इसको पहनने से माहौल ख़ुशी भरा रहता है।
  • इस अंगूठी की वजह से परिवार वालों के बीच भी स्नेह बढ़ता है। उनके बीच झगडे भी नहीं होते।
  • यह अंगूठी पति-पत्नी और प्रेमी-प्रेमिकाओं के बीच में भी प्रेम बढ़ाने में मदद करता है।
  • कछुआ बहुत लम्बे समय जीवित रहता है। इसीलिए इस अंगूठी को पहनने से आपके सारे रोग दूर हो जाते है। इसी वजह से आप हमेशा स्वस्थ रहते है।
  • इस रिंग की वजह से आपकी उम्र भी लम्बी होती है।
  • इसको पहनने से आपके मन में कोई भी बुरे ख्याल नहीं आते और नकारात्मक ऊर्जा भी दूर रहती है।
  • अंगूठी पहनने के बाद आप सफलता पाने के लिए ज्यादा प्रेरित रहते है।
  • इस अंगूठी को पहनने से आपके करियर में भी फायदा होता है। आपको आपके बिज़नेस या नौकरी में भी सफलता मिलती है।
  • कछुए की पीठ बड़े से बड़ा प्रहार सेह सकती है। यह अंगूठी मनुष्य के लिए एक सुरक्षा कवच की तरह काम करता है। इसकी मदद से आप हमेशा सुरक्षित रहते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *